इग्नू (IGNOU) यूनिवर्सिटी जल्द ही शुरू करने जा रहा है कोरियन लैंगवेज सर्टिफिकेट कोर्स,छात्र ले सकेंगे दाखिला

Last Modified: 11 Aug 2022

भारत में विदेशी भाषाओं का चलन बढ़ता जा रहा है। देश में पॉपुलर स्पेनिश, फ्रेंच और जर्मन विदेशी भाषाओं को छात्र उत्सुकता से सिख रहे हैं। अब इंदिरा गांधी नेशनल ओपन यूनिवर्सिटी (IGNOU) छात्रों के लिए नई विदेशी भाषा शुरू करने जा रही है। विश्वविद्यालय जल्दी ही अपने यहां कोरियन लैंगवेज सर्टिफिकेट कोर्स शुरू करने की तैयारी में है।

इस कोर्स में 12वीं पास के छात्र और जिसकी उम्र 18 साल से ज्यादा होगी वे ही दाखिला ले सकेंगे। यह कोर्स हर क्षेत्र में उपलब्ध होगा। कैंडिडेट्स अपने इलाके के रीजनल सेंटर पर जाकर इसके लिए आवेदन कर पाएंगे। यह कोर्स कोरियाई दूतावास ओपन एंड डिस्टेंश मोड में कराएगा।

इस कोर्स में दाखिला लेने के बाद छात्रों को स्टडी मेटेरियल, ओडियो और विजुवल उपलब्ध कराए जाएंगे। 14 मार्च को इस कोर्स को इग्नू के साथ शुरू करने से पहले कोरियाई दूतावास के अधिकारियों ने विश्वविद्यालय का दौरा किया था। इस दौरान उन्होंने इग्नू के वीसी और अन्य वरिष्ठ अधिकारियों से मुलाकात की।

इस प्रोग्राम के को-ऑर्डिनेटर के अनुसार भारत और कोरिया के बीच संबंध काफी मधुर रहे हैं। इस नए प्रोग्राम की शुरूआत से हमें एक-दूसरे की संस्कृति समझने को मिलेगी। कोरिया और भारत के संबंध और अच्छे होंगे। कोरिया की कई कंपनी भारत में है। इस तरह के प्रोग्राम से उन्हें भी लाभ मिलेगा।

1985 में अधिनियम द्वारा स्थापित इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय(IGNOU) कई तरह के बैचलर, पोस्ट ग्रेजुएट, डिप्लोमा और सर्टिफिकेट कार्यक्रम कराता है।यूनिवर्सिटी (Indira Gandhi National Open University) के पीजी कोर्स नौकरीपेशा लोगों के लिए और अन्य छात्रों के बीच बहुत लोकप्रिय है।

इग्नू (IGNOU) विश्वविद्यालय तीन कैटेगरी टेक्निकल, नॉन-टेक्निकल और सॉफ्ट स्कील में कार्यक्रम प्रदान करता है। इग्नू यूनिवर्सिटी 15 देशों में 67 क्षेत्रीय, 2667 अध्ययन और 29 विदेशी केंद्रों का नेटवर्क है।

1987 में यूनिवर्सिटी ने दो अकादमी प्रोगाम डिप्लोमा इन मैनेजमेंट और डिप्लोमा इन डिस्टेंस एजुकेशन शुरू किए थे, जिसमें 4,528 ने दाखिला लिया था।

Read This News In English

0 Comments