जेएनयू समिति (JNU Committee) करा सकती है ऑनलाइन प्रवेश परीक्षा, जानिए पूरा मामला

Last Modified: 04 Dec 2022

जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (JNU) की प्रवेश परीक्षाएं साल 2019 से ऑनलाइन की जा सकती है। उम्मीद की जा रही है कि 2019-20 से जेएनयूईई (JNU Entrance Examination) प्रवेश परीक्षाएं ऑनलाइन आयोजित की जाएगी। इस फैसले को लेने के लिए 12 सदस्यों की समिति बनाई गई है।

रिपोर्ट के अनुसार, 5 मार्च को संयुक्त रजिस्ट्रार प्रवेश एम के पचौरी ने एक अधिसूचना जारी की थी कि वाइस चांसलर ने चर्चा करने के लिए एक समिति का गठन किया है और जेएनयूईई (JNUEE) 2019—20 से ऑनलाइन कराने की सिफारिश कीगई है।

नोटिफिकेशन में लिखा है कि समिति इस फैसले की विस्तार से जांच करेगी। जल्द से जल्द सक्षम प्राधिकारी को रिपोर्टे सौंपी जाएगी।

12 लोगों की गठन की गई समिति में से प्रोफेसर बिंदू पुरी जिन्होंने अपनी गठन के बारे में पीटीआईको पुष्टि किया है। हालांकि हाल ही में बनाई गई समिति का विरोध पूर्व जेएनयूएसयू (Students Union) के महासचिव सतारापा चक्रवर्ती ने किया था, जिन्होंने यूनिवर्सिटी के शिक्षक संघ (JNUTA) और छात्र संघ (JNUSU) से कोई प्रतिनिधि नहीं होने का आरोप लगाया था।

प्रोफेसर दीपक गौर को समिति के सदस्यों में से संचार एवं सूचना सेवा निर्देशक संजीव कुमार के द्वारा चेयरमैन चुना गया है। गौर समिति में सदस्य सचिव का पद संभालेंगे।

जेएनयू (Jawaharlal Nehru University) के बारे में-

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) भारत में महत्वपूर्ण विश्वविद्यालय है। शिक्षण और अनुसंधान के लिए विश्व का प्रसिद्ध केंद्र है। राष्ट्रीय आकलन और प्रत्यायन परिषद (एनएएसी) द्वारा यह भारत में एक नंबर रैंक पर है। इसे साल 2017 में भारत के राष्ट्रपति से सर्वश्रेष्ठ विश्वविद्यालय पुरस्कार भी मिल चुका है।

हाल ही में जेएनयू ने 2017-18 की प्रवेश परीक्षा का रिजल्ट घोषित किया है। जेएनयूईई (JNU Entrance Examination) 2017 प्रवेश परीक्षा 27 से लेकर 30 दिसंबर तक देश के 53 शहरों में आयोजित की गई थी। रिपोर्ट के अनुसार, इसमें करीब 1.5 लाख कैंडिडेट्स ने भाग लिया था।

0 Comments