सीबीएसई (CBSE) 2018- 10वीं परीक्षा पास करने के लिए सिर्फ 33% अंक करने होंगे हासिल

Last Modified: 24 May 2022

सीबीएसई (CBSE) 10वीं बोर्डपरीक्षा के छात्रों के लिए खुशखबरी की खबर है। अब 10वीं कक्षा के छात्र एग्रीगेट 33 प्रतिशत मार्क्स लाने पर भी पास होंगे। इसमें इंटरनल के 20 और बोर्ड परीक्षा के 80 अंक शामिल होंगे।गुरुवार को ही सीबीएसई (Central Board of Secondary Education)ने नोटिफिकेशन जारी किया है।

इस एग्रीगेट 33% मार्क्स में इंटरनल असाइमेंट और थ्योरी दोनों शामिल होगें। पहले परीक्षा में 33 प्रतिशत बोर्ड परीक्षा में और अलग से इंटरनल असेसमेंट में लाने अनिवार्य थे।

10वीं की परीक्षा5 मार्च से शुरू होने जा रही हैं। सीबीएसई आयोग (CBSE Board) ने छात्रों को राहत देने के लिए परीक्षा में उत्तीर्ण अंकों में छूट की घोषणा की है। 33 प्रतिशत अंक लाने वाला निर्णय इस साल के लिए किया जा रहा है।अब उन्हें अलग से 33 प्रतिशत अंक लाने की जरूरत नहीं होगी। यह वह बैच है, जिन्होंने नौंवीं की परीक्षा सीसीई पैटर्न पर दी थी।

केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय (HRD) ने 2010-11 बैच की 10वीं परीक्षाएं वैकल्पिक रूप से तैयार की थी, हालांकि हर किसी को यह परीक्षाएं देना अनिवार्य होता है।

आयोग परीक्षा समिति ने इस मामले में 16 फरवरी को बैठक की थी। जिसके बाद 2018 के बैच 10वीं परीक्षा के लिए अलग अजेंडा लाया गया है।

10वीं परीक्षा के छात्रों के लिए 6 या 7 मई को होने वाले वोकेशनल विषयों के पेपर में भी छूट दी गई है। जिनपेपरों को पहले पास करना अनिवार्य होता था। सीबीएसई (CBSE) के अतिरिक्त विषयों में इंटरनल असेसमेंट के 20 अंक और बोर्ड परीक्षा के 80 अंक होते हैं।

सीबीएसई (CBSE) की ओर से जारी सूचना के मुताबिक, इस साल 10वीं के एग्जाम में 9.67 लाख छात्र व 6 लाख 71 हजार छात्राएं बैठेंगी। 10वीं बोर्ड की परीक्षाएं 5 और 12वीं की 6 मार्च से शुरू होने जा रही हैं।

Read This News In English

0 Comments