एसएससी सीजीएल (SSC CGL) परीक्षा ग्रेजुएट स्टूडेंट्स के बीच क्यों रहती है पॉपुलर, जानिए

Last Modified: 23 Sep 2022

2008 वर्ष के बाद से युवाओं में सरकारी सेक्टर की जॉब के लिए इच्छा बढ़ती जा रही है। क्योंकि भारत सरकार ने विभिन्न मंत्रालयों/ विभागों में बहुत नौकरियों के लिए अधिसूचित किया था, जबकि निजी क्षेत्र/ बहुराष्ट्रीय कंपनियां अपने कर्मचारियों को फायर कर रही थीं और सीमित संख्या में भर्ती कर रही थीं।

जब ही से निजी क्षेत्र से सरकारी क्षेत्र में युवाओं का इंटेरेस्ट बढ़ने लगा है। सरकारी क्षेत्र की नौकरियां भविष्य के लिए सुविधाजनक एवं आरामदायक होती हैं। सरकारी नौकरी में एक बार की मेहनत होती है, एक बार सेलेक्ट होने के बाद सुनहरा अवसर मिलता है।

कर्मचारी चयन आयोग (SSC) एक सरकारी रिक्रूटमेंट कंपनी है। जो विभिन्न प्रकार के पदों पर मंत्रालय और केंद्रीय सरकारी विभाग में भर्ती करती है। इसमें अधीनस्थ कार्यालय भी शामिल है। एसएससी आयोग हर साल सीजीएल परीक्षा, संयुक्त उच्चतर माध्यमिक स्तर, जूनियर इंजीनियर, स्टेनोग्राफर, जूनियर हिंदी ट्रांसलेटर, एसआई-एएसआई समेत 11 परीक्षाएं आयोजित कराता है।

ग्रेजुएट स्टूडेंट्स में इन परीक्षाओं को लेकर इंतजार और मांग रहती है। 2017 में करीब 15 लाख से ज्यादा कैंडिडेट्स ने सीजीएल (Combined Graduate Level) परीक्षा में भाग लिया था। जॉब की तलाश करने वालों में हमेशा यह परीक्षा पॉपुलर रहती है।

क्यों हमेशा ग्रेजुएट स्टूडेंट्स में एसएससी सीजीएल परीक्षा की डिमांड रहती है, जानिए-

नौकरी सुरक्षा-

ज्यादातर ग्रेजुएट स्टूडेंट्स में सीजीएल (CGL) आकर्षक विकल्परहता है। क्योंकि इसमें जॉब सिक्योरिटी रहती है। सरकारी नौकरी में कोई में हायर और फायर पॉलिसी नहीं होती। कैंडिडेट 60 साल उम्र तक नौकरी कर सकते हैं। इसके बाद रिटायरमेंट प्रदान की जाती है।

वित्तीय स्थिरता-

सरकारी जॉब में वित्तीय स्थिरता होती है। इन सरकारी विभागों में समय पर सैलरी आती है। इसलिए सैलरी आने की टेंशन नहीं होती। इसके अलावा, कॉर्पोरेट कर्मचारियों की तुलना में सरकारी कर्मचारियों को आसानी से ऋण मिलता है।

वेतन वृद्धि-

सीजीएल (CGL) अधिकारी की बेसिक सैलरी 3 प्रतिशत से हर साल बढाती है। कॉलेजों और निजी क्षेत्र की कंपनियों के कई उम्मीदवार इसी वजह से आकर्षित होते हैं।

समान अवसर-

एसएससी आयोग में सब उम्मीदवारों को बराबर का हक मिलता है। सबकों समान अवसर उठाने का मौका मिलता है। इस सीजीएल परीक्षा के जरिए पोस्टिंग के बाद बेहतर अवसर का लाभ उठा सकते हैं।

प्रोमोशन-

सरकारी प्रोमोशन पॉलिसी के द्वारा सीजीएल अधिकारी का 10 साल के बाद प्रोमोशन किया जाता है। इस बारे में टेंशन लेने की जरूरत नहीं होती।

स्ट्रेस-

सीजीएल परीक्षा के जरिए अधिकारी पद पर पोस्टिंग होने के बाद लाइफ बैलेंस रहती हैं। क्योंकि इसमें काम पूरा करने का कोई टारगेट नहीं होती है। पढ़ाई के लिए 2 साल की छुट्टियां ले सकते हैं।

0 Comments