सीबीएसई 12वीं 2018- बिजनेस स्टडी के पेपर में भूलकर भी ना करें ये गलतियां, इन बातों का रखें ध्यान

Published on : 23rd February 2018    Author : Tanvi Mittal
all

सीबीएसई (Central Board of Secondary Education) 2018 की 12वीं परीक्षाएं 5 मार्च से शुरू की जाएंगी। कॉमर्स स्ट्रीम के छात्रों का बिजनेस स्टडी का पेपर 9 मार्च को आयोजित किया जाएगा। बिजनेस स्टडी का पेपर सैद्धान्तिक विषय है जिसमें छात्र कोछोटी-छोटी बातों को ध्यान में रखना जरूरी होता है।

हालांकि सीबीएसई ने अपने सिलेबस में परिवर्तन किए हैं, जिसमें 100 प्रतिशत अंक हासिल नहीं किए जा सकते हैं। बिजनेस स्टडी में प्रश्न फाइनेंशल मैनेजमेंट, जनरल मैनेजमेंट और मार्केटिंग मैनेजमेंट से संबंधित केस स्टडी पर आधारित होते हैं।

कोलकाता के एक स्कूल की 10 साल अनुभवी बीएसटी शिक्षक ने बताया कि विद्यार्थियों को अच्छे अंक प्राप्त करने के लिए इस पेपर में सावधान रहने की आवश्यकता होती है।

इन 10 साधारण गलतियों से इन तरीकों से बचा जा सकता है-

  1. ज्यादातर प्रश्न अंश पर आधारित होते हैं जो परिचित घटनाओं से संबंधित होते हैं। स्टूडेंट्स को पैसेज को ध्यान से पढ़कर प्रश्नों के उत्तर देने चाहिए। कुछ प्रश्नों के जवाब मिलने पर उत्साहित नहीं होना चाहिए।
  2. अगर किसी प्रश्न में डायग्राम के लिए कहा जाए तभी बनाएं, नहीं तो ना बनाएं। वैसे लेबलिंग डायग्राम बहुत महत्वपूर्ण होता है।
  3. सीबीएसई (CBSE) बीएसटी के पेपर का उत्तर ज्यादा लंबा नहीं लिखना चाहिए। 1 अंक वाले प्रश्नों के उत्तर पॉइंट में लिखे जाने चाहिए।
  4. अक्सर विद्यार्थी प्रश्नों कीमहत्वपूर्णता और विशेषताएं बताने में अस्तव्यस्त हो जाते हैं। इस चक्कर में उनके अंक कट जाते हैं। दोनों के अंतर को समझकर प्रश्न के उत्तर दें।
  5. छात्रों को बार-बार किसी टॉपिक की परिभाषा नहीं लिखनी चाहिए। यह एनसीआरटी की किताबों में भी बताया गया है।
  6. सीबीएसई (CBSE) 12वीं परीक्षा के बीएसटी पेपर में, वास्तविक जीवन के उदाहरण (वित्तीय प्रबंधन के मामले में गणितीय उदाहरण) अधिकतम अंक दिलाने में मदद करते हैं।
  7. अक्सर विद्यार्थी दो अवधारणाओं के बीच अंतर नहीं बताते, लेकिन पूरे अंक लिए अंतर लिखना जरूरी होता है।
  8. 1 अंक वाले प्रश्नों के उत्तर में हां या नहीं के साथ कारण भी बताएं। एक शब्द में उत्तर देने से बचें। अधिकतर स्टूडेंट्स इसी गलती को करते हैं।
  9. स्टूडेंट्स शब्दों की लिमिट के मुताबिक पेपर समय पर खत्म करें। वो सोचते हैं कि लिमिट से ज्यादा शब्दों को लिखने से अधिक अंक प्राप्त किए जा सकते हैं।बल्कि अंक के अनुसार उत्तर होना चाहिए।

इन अशुद्धियों को आसानी से टाला जा सकता है। इन ऊपक दी गई कुछ बातों को ध्यान में रखने की जरूरत होती है।


all Previous Years Solved Papers



0 Comments